MY SCHOOL HOSTEL LIFE – वो दिन भी क्या दिन थे

SCHOOL के दिन, वो दिन भी क्या दिन थे | मैं ऐसा क्यों कह रहा हूँ पता है आपको?? क्यूंकि मै स्कूल जैसी जगह से बाहर आ चूका हूँ मै 12 PASSOUT हो चूका हूँ तो School Life जैसी दुनिया मेरी ZINDAGI में रही नहीं |

मै इस ARTICLE को लिखना अभी-अभी शुरू किया हूँ और मै झूठ नहीं बोलूंगा “मै बहुत EMOTIONAL हूँ”| जो लोग मेरी तरह 12 PASSOUT हो चुके है और ये ARTICLE पढ़ रहे है तो शायद वो मेरी बात समझ पा रहे होंगे | और मेरे 12 Passout हुए बस एक – दो साल ही हुए है|

जो लोग अभी तक 12  PASSOUT नहीं हुए है और मेरी ये ARTICLE पढ़ रहे है तो शायद बहुत से लोगो को ये बात नहीं समझ में आ रही होगी, जो की जायज़ है क्यूंकि हम भी अपने स्कूल Time में ये चीज़ FEEL नहीं कर पाते थे |

जो लोग अभी तक 12 PASSOUT नहीं हुए है उनको मै एक चीज़ बताना चाहता हूँ की आपको इस बात का बिलकुल अंदाजा नहीं है की “आप अपने ZINDAGI का सबसे KHOOBSURAT पल में हो” |

पता नहीं मुझे कितने लोग ये चीज़ महसूस कर पाते है?? मै नहीं कर पाया था क्यूंकि इस चीज़ के बारे में कोई बात नहीं करता था न SCHOOL के TEACHER और न ही PARENTS | बस सब लोग पढ़ो-पढ़ो ही कहते थे, अगर अभी नहीं पढ़ा तो तम्हारा CAREER ख़राब हो जायगा और बहुत सारी बातें | जब की ये सब बकवास है|

क्या आपको पता है हमे पढ़ना क्यों चाहिए??- click कर जाने

और आज जब हमारा स्कूल छूट चूका है हम उस पल में दोबारा नहीं जा सकते तो बहुत ज़ोरो से ये बात महसूस होती है की वो स्कूल के दिन- वो दिन भी क्या दिन थे | बहुत लोग ये सोच रहे होंगे की इसके स्कूल में ऐसा क्या था जो इतना स्कूल-स्कूल कर रहा है??

कुछ नहीं था मेरे स्कूल में अलग, जैसा होता है वैसा ही था, पर जहाँ आप अपना बचपन गुज़ारे हो उसे कैसे भूल सकते हो?? | मेरे घरवालों ने मुझे 3 CLASS से BOARDING SCHOOL में डाल दिया था तो आप समझ सकते हो की मैं घर से ज़्यादा HOSTEL में रहा हूँ और मै उस स्कूल में 7 साल था मतलब 10 CLASS तक | मैंने अपना बचपन गुजार दिया यार |

ये 7 साल मेरे ज़िन्दगी का सबसे खूबसूरत पल था | ये अब समझ में आता है| ये 7 साल में मैंने दोस्त कमाय, बनाए नहीं | मेरे आज भी वही लोग दोस्त है कुछ लोग मुझे बहुत मानते थे |

क्या आपको पता है दोस्त बनाना और कमाना में क्या फर्क होता है ?
जानिए – True Friendship क्या होता है ?

कुछ मज़ेदार किस्से-HOSTEL LIFE

School Life

रात को BOUNDARY तड़प के HOSTEL से बाहर भागना, मै 7 साल में एक बार भागा था | रात को PRINCIPAL के गेट में मारकर भागना और एक दिन तो एक लड़के ने एक-बाल्टी पानी ही डाल दिया था बेचारे PRINCIPAL SIR रात को पोछा मार रहे थे | PRINCIPAL SIR हमारे HOSTEL में ही रहते थे |

जिस दिन MESS का खाना अच्छा न लगे तो रोटी POCKET में ले के भागना | जो लोग HOSTEL में रह चुके है उन्हें पता है रोटी-MIXTURE की कहानी, अगर आपने कभी नहीं खाया तो आपको खाना चाहिए |

कभी सुबह उठने में लेट हो जाये तो WARDEN एक STICK ले के आते थे वो धीरे से आपका कंबल उठाते और फिर आपके पिछवाड़े(bum) पे जोर से पड़ता, आपका नंद एक चुटकी में फट जाता और पड़नी की आवाज़ इतनी ज़्यादा होती थी की बाकी बच्चे इससे ही उठ जाते थे | किस्मत से मुझे कभी ये वाली मार नहीं पड़ी |

फिर BATHROOM के लिए LINE लगाना, कई बार हम 2 नंबर कर रहे होते थे और पानी ख़तम हो जाता था फिर आधे में ही भागना पड़ता था |

जो लोग Hostel में कभी रहे नहीं है, पहली बात तो – I am so Sorry for you. और उनको कभी ऐसा Situation में डाल दे तो उनसे तो Handle ही नहीं होगा | भाईसाहब नहाते – नहाते पानी खत्म हो जाती थी | Body में साबुन लगा हुआ है और नल में पानी नहीं आ रहा है पर अपन लोग फिर भी Class पहुंच जाते थे |

और ये सब चीज़ हम जैसे लोगो के साथ ही होता था क्यूंकि हम ढीठ लोग थे हमे जल्दी उठना तो होता नहीं था | मुझे जहाँ तक याद है CLASS 9 में मै एक या दो बार मै BREAKFAST गया होंगा और CLASS 10 में तो एक भी दिन नहीं | हम CLASS में पीछे बैठकर DAYSHOLAR की LUNCH मांगकर या लूटकर खा लेते थे |

और बहुत सारे किस्से है एक बार गर्मी में एक HOSTEL का फैन नहीं चल रहा था तो कुछ मेरे दोस्तों ने उसका पंख की FOLD कर दिया था हमे फिर बुलाया गया था पर कुछ SERIOUS हुआ नहीं थोड़े से LECTURE पड़े | वैसे देखा जाये तो मेरे सारे दोस्त कमीने ही थे |

और हमारे स्कूल में PHONE रखना ALLOW नहीं था तो हमलोग कमर में रखते थे पैंट की ELASTIC की मदद से और जब चेक होने लगता था तो बचाने तो चक्कर में UNDERWEAR के अंदर डालना पड़ता था | कभी-कभी कुछ टीचर उधर भी छू देते थे |

हमने एक बार दंगे भी किये हुए है हमे SATURDAY को खिचड़ी मिलती थी जो की हमे अच्छा नहीं लगता था | बहुत सारे किस्से है, एक बार हमने अपने Warden के साथ पंगा कर लिया था | ये सब के अलावा जो हमने HOSTEL में रहकर जो मस्ती किया है भाईसहाब अलग LEVEL और यही चीज़ मै सबसे ज़्यादा MISS करता हूँ अभी लगता है कितना जल्दी बीत गया 7 साल |

यही सब के बीच कई बार मार भी पड़ी कई बार मार खाते-खाते बच गए और 7 साल निकल गए मेरे | और इस वक़्त, School Life की सबसे खूबसूरत चीज़ ये है की किसी बात का कोई TENSION ही नहीं होता है| आप बिल्कुल FREE OF MIND होते है|

मैं जानता हूँ बहुत सारे बच्चो को अपने स्कूल से COMPLAIN होगा पढाई ठीक से नहीं होता है,MESS में खाना ख़राब है, ये नहीं होता है, वो नहीं होता है ये चीज़ ऐसा होना चाहिए काफी सारे होंगे जो की कभी ख़तम नहीं होगा |

हमारे साथ भी ऐसा कुछ था मैंने आपको बताया हमे भी खिचड़ी पसंद नहीं थी,हमने खाना भी छोर दिया था | हमे भी कुछ TEACHER पसंद नहीं थे | हम भी यही मनाते थे की कब यहां से निकलेंगे, कब इस School से पीछा छूटेगा |

7 साल के बाद जब मै अपना 10th BOARD EXAM  दे के मै वो स्कूल छोर रहा था तो उस वक़्त मै खुश तो था पर मुझे इस बात का बिल्कुल अंदाजा नहीं था की उस स्कूल के साथ-साथ वो कमीने दोस्त, वो School HOSTEL LIFE भी छूट जाएगी | क्या दिन था वो |

अगर आज कोई मुझसे पूछे की क्या तुम HOSTEL LIFE वाली ZINDAGI में वापस जाना चाहोगे, मेरा बस एक ही सर्त होगी की मेरे कमीने दोस्त भी साथ दे दो | मैं बहुत MISS करता हूँ |

जो लोग मेरी तरह बचपन से Hostel में रहे होंगे | अपना बचपन गुज़ार दिया हो अपने School के Hostel में वो मेरी बातों को बहुत अच्छी तरह से समझ पा रहे होंगे |

12th के बाद मानो जिंदगी झंड हो जाती है|

School Life vs College Life

मैं स्कूल के TOPPER या वो लोग जिसे इस LIST में COUNT किया जाता हो, वो लोगो से मैं कुछ कहना चाहता हूँ | TOPPER होना बहुत अच्छी बात है आपका नाम हमेशा स्कूल के BOARD में लिखा हुआ होता है बहुत PROUD की बात होती है अपने आप में | पर,

मैं तुमलोगो से बस इतना कहना चाहता हूँ की तुमलोग अपनी ZINDAGI बस किताबो के बीच मत बिताओ | कभी-कभी टीचरों से पिटाना भी चाहिए क्यूंकि जब आप अपनी School LIFE से बाहर निकलोगे तो क्या यादें होंगी आपके पास शिवाय की मैं एक टोपर था और किताबे ले के एक कोने में ही तो पड़े रहते थे और बस ख़तम | कोई ऐसी MEMORIES ही नहीं होगी जिससे आप याद करके हसोगे | मान लो मेरी बात नहीं तो पक्का पछताओगे |

बाद में वो वाली FEELING नहीं आनी चाहिए की 12 साल हमने क्या किया ??

मुझे लगता मैं अपने GROUP सबसे सीधा बच्चा था ALTHOUGH कई बार हमे मार भी पड़ी है BUT अभी लगता है की थोड़ी से बदमाशी हमे भी कर लेनी चाहिए थी | इसलिए ये 12 साल खुल के जी लो, मैं ये नहीं कह रहा हूँ की पढाई मत करो | पर जिओ अपनी School Life खुल के…….| मैं तो बोलता हूँ की अगर आप किसी से कुछ Confess करना चाहते हो तो कर ली लो | इस उम्र में आपके अंदर जो मासूमियत होती है न वो सबसे Interesting Element है|

ये 12 साल आपकी ज़िन्दगी का सबसे खूबसूरत पल है| मान लो मेरी बात, मैं यु हीं ऐसे नहीं बोल रहा हूँ | वरना आपको अंदाजा भी नहीं है की 12th के बाद मानो जिंदगी झंड हो जाती है| आप अभी समझ नहीं पाओगे शायद क्यूंकि ये सब बातें कोई नहीं बताता है| 12  PASSOUT हो जाओ फिर देख लेना | जब तक आपका JOB लग नहीं जाता न घर वाले आपको जान मार देंगे |

कुछ लोग ये सोच रहे होंगे की कब हमारी School Life ख़त्म होगी, कब ये Dress हटेंगे | College जायेंगे Color-dress पहन के अपनी अपनी Bikes ले के | बहुत मज़ा आएगा Parties होंगी, घूमेंगे, G.F………etc. बिल्कुल ये सब होंगे, पर पता है कोई भी चीज़ करने को कब मज़ा आता है जब वो चीज़ करने को न बोला जाये | यहां तो कोई Restriction ही नहीं है| और College Life में हमेशा एक Mental Pressure तो होता है JOB को ले के |

देखो कोई न कोई खास बात तो है तभी लोग अपनी College Life से ज्यादा अपनी School Life को Miss करते है| आप अपना Reason ज़रूर बताना Comment Section में |

जब हम अपनी School Bunk करते थे तो किसी बड़े ने हमसे कहा था – मौका है अभी चले जाओ School | एक बार ये School Life ख़त्म हो गयी न School Dress पहनने के लिए और Class जाने के लिए तरस जाओगे पर जा नहीं पाओगे | इसका मतलब ये नहीं है की आप Daily School जाओ | अपनी 12 साल की School Life की Zindagi को ऐसे जिओ की कोई पछतावा न रह जाये |

और जो लोग कह रहे है की मेरा School ख़राब है उस School से निकलने के बाद अगर आपको वो SCHOOL याद नहीं आया ना तो मेरा नाम बदल देना | एक दिन आप ज़रूर सोचोगे, कास मेरा School का दिन चल रहा होता |

आप Comment Section में मुझे ज़रूर बताइए की आप अपनी School Life की क्या चीज़ सबसे ज़्यादा Miss करते हो |

Spread the love
  • 1
    Share
  • 1
    Share

3 thoughts on “MY SCHOOL HOSTEL LIFE – वो दिन भी क्या दिन थे”

Leave a Comment